NEFIS Statement protesting against the assault on Manipuri women in Mumbai

March 5, 2016

PRESS RELEASE

ASSAULT ON MANIPURI WOMEN IN MUMBAI REVEALS THE INSENSITIVE ATTITUDE OF MAHARASHTRA GOVERNMENT TOWARDS NORTH-EAST PEOPLE!
NEFIS CONDEMNS THE INCIDENT! DEMANDS SUSPENSION OF POLICE PERSONNEL INVOLVED IN TREATING THIS CASE AS A NON-COGNIZABLE OFFENCE!

North-East Forum for International Solidarity (NEFIS) strongly condemns the assault on Manipuri woman, who was spat upon, beaten and dragged by a man in Vakola area of Mumbai on Saturaday, which highlights the rampant discrimination faced by the North-East community in metropolitan cities. Moreover, this case reveals the insensitive and apathetic attitude of the State Machinery and Police in cases concerning sexual harassment and violence against North-east Women in particular and women in general.

The reprehensible attitude of police in the whole matter is shocking, as it treated the complaint by the victim, as a non-cognizable offence. Policemen ignored her request for an FIR and merely registered a non-cognizable offence (NC). Even in that complaint, the officer on duty made no mention of molestation, even though the victim showed him her torn clothes.

NEFIS condemns such racist attacks on the North-East people, who migrate to mainland India, in search of better educational and employment, which are denied to them back home. Instead of providing them a secure and safe environment to live and work, the government neglects their concerns, a fact which is amply revealed in the recurring incidence of such assaults. NEFIS demands that the Maharashtra Government should immediately suspend the police personnel involved in the shameful act of registering this grave matter, as a non-cognizable offence. The government should also immediately look into and redress the problems faced by the North-East community in the city.

Ajoy Moirangthem,
North-East Forum for International Solidarity (NEFIS)

______________________________________________________

दिनांक: 04.03.2016

प्रेस विज्ञप्ति

मणिपुरी महिला पर हुए हमले ने महाराष्ट्र सरकार का महिला-विरोधी चेहरा दिखाया!
नेफिस ने हमले की कड़ी भर्त्सना की!

नार्थ-ईस्ट फोरम फॉर इंटरनेशनल सॉलिडेरिटी(नेफिस) मुंबई में मणिपुरी महिला के साथ हुई अभद्रता और यौन हिंसा की कड़ी भर्त्सना करता है| इस घटना से यह एक बार फिर दिखता है कि भारत के महानगरों में काम और पढाई के लिए उत्तर-पूर्व भारत से आने वाले लोगों के साथ किस प्रकार का नस्ली भेद-भाव होता है| इसके अतिरिक्त यह घटना सरकारी तंत्र और पुलिस का उत्तर-पूर्व और अन्य जगह की महिलाओं के साथ होने वाले यौन शोषण और हिंसा की घटनाओं के प्रति उनका असंवेदनशील और उदासीन रवैया दिखाती है| मुंबई पुलिस ने महिला के साथ हुई यौन हिंसा की घटना पर तहरीर न दर्ज कर, उसे एक असंज्ञेय अपराध मानकर, अपना महिला-विरोधी चेहरा दिखाया है| शिकयातनामे में भी किसी प्रकार की हिंसा का वर्णन नहीं किया गया है|

नेफिस इस तरह कि नस्ली और महिला-विरोधी घटनाओं की कड़ी निंदा करता है| हमारा यह मानना है कि उत्तर-पूर्व भारत के लोग महानगरों में बेहतर काम और पढाई कि व्यवस्था के कारण आते हैं, जो उन्हें अपने राज्यों में उपलब्ध नहीं हैं| उनको रहने और काम करने के लिए एक सुरक्षित वातावरण देने के बजाये, सरकार उनकी समस्याओं को नज़रंदाज़ करती है, जिसका प्रमाण लगातार ऐसी घटनाओं के होने से मिलता है| नेफिस यह मांग करता है कि मुंबई पुलिस के दोषी कर्मियों को महाराष्ट्र सरकार तुरंत बर्खास्त करे| साथ ही साथ, सरकार उत्तर-पूर्व के लोगों की समस्याओं पर ध्यान देकर, उनके समाधान के लिए तुरंत कदम उठाये|

अजॉय मोइरन्ग्थेम,
नार्थ-ईस्ट फोरम फॉर इंटरनेशनल सॉलिडेरिटी(नेफिस).
संपर्क सूत्र- 7838983871.