Ayodhya – Sixth Ayodhya film festival, Dec 19-21

6th-ayodhya-film-festival-official-poster.jpg

Sixth Ayodhya film festival from 19th of December. Films submissions are invited

Translation courtesy of Poonam Srivastava, Sanhati. The Hindi version follows the English announcement.

On 6th of December, Babri Masjid demolition is entering into its 20th year. The demolition of the masjid is still fresh in people’s mind. The wounds were still not healed and yet communal forces have started to rise again in the city as has been witnessed in past few days. The communal tension that was seen in Faizabad and its nearby villages has yet again rattled the age old composite culture of this region. Prominent politicians have spread the hatred in the name of Ayodhya and used it to gain power and never once have shown the sympathy to its plight.

During this difficult time, the 6th Ayodhya film festival is getting organized in the twin cities of Ayodhya-Faizabad which are diverse culture cities of ‘combined martyrdom-combined heritage’. Many famous personalities of civil liberty movements are participating in this program that is being held on the day of Ashfaq-Bismil martyrdom. All of you are welcome to this fair of creativity.

The organizer of the festival, Mr. Shah Alam, said that even after 65 years of our independence, the problems of price-hike, unemployment, and poverty have been increased steeply instead of getting abolished. We have gotten used to hearing about the scams and corruption. Common person is carrying the burden of debt and getting crushed underneath it. The voices of dissent have lowered down and it seems like darkness everywhere.

Leaders of people’s movements are facing the angst of government. Irom Sharmila is on hunger strike for the past 10 years but the government is sleeping peacefully. The officers in Multai who have killed more than two dozen farmers in cold blood are getting promoted, whereas people like Dr. Sunilam who talked about the rights of farmers is charged with life imprisonment. Corporate families with the help of government are forcibly occupying the water, forest and land where as Dayamani barla who fights for the rights of indigenous people is in jail. A fascist who throughout his life insulted the constitution is getting cremated with state honor whereas media has distanced itself from asking any questions. The problems and miseries of common person do not have any space in media. Shah Alam has requested to all the liberal minded people to be a part of this festival that is happening in the twin cities of Ayodhya and Faizabad.

This festival is also being held in the memory of comrade Dhirendra Pratap Singh and Professor Banwari lal Sharma and all of you are invited to Ashfaq-Bismil auditorium.

Ayodhya Film Society Core Committee:
Ashok Sirivastava Advocate, Dr. Anil Singh, Jalal Siddiqi, Scharada, Dubey, Dr. Rupesh Singh, Shah Alam, Afaq, Amarnath Verma, Ghufran Siddiqui, Abhishek Sharma, Sajjad Kargili, Anil Varma, Naushad Ahamad, Arvind Murti, Shariq Naqvi, Vineet Maurya, Gufran Khan, Hema Khatri, Mohd. Tufail and Rajesh

DIRECTORATE OF FILM FESTIVALS
320, SARYU KUNJ DURAHI KUWA
AYODHYA-224123 (UP)

###

6ठां अयोध्या फिल्म महोत्सव 19 दिसबंर से – फिल्में आमंत्रित

छह दिसम्बर को बाबरी मस्जिद विध्वंस की घटना के 20 साल पूरे हो रहे हैं।
लोगों के जेहन में बाबरी मस्जिद विध्वंस का मंजर अभी भी जिंदा है। उनके
घाव अभी भरे भी नहीं थे कि सूबे में एक बार फिर साम्प्रदायिक ताकतें सिर
उठाने लगी हैं, जिसका नजारा पिछले दिनों देखने को मिला। फैजाबाद और उसके
आस-पास के गावों में जहरीली फुँफकार ने जो कहर बरपाया, उससे सदियों से
चली आ रही गंगा-जमुनी तहजीब एक बार फिर शर्मसार हुई। राजनीति के
अलम्बरदारों ने अयोध्या के नाम पर सारे देश में खूब सियासत की ऩफरत का
कारोबार किया लेकिन उसकी बदहाली पर कभी मरहम नहीं लगाया।
ऐसे माहौल में गंगा जमुनी तहजीब के ‘साझी शहादत-साझी विरासत’ वाले शहर
अयोध्या-फैजाबाद में 6ठा अयोध्या फिल्म महोत्सव आयोजित हो रहा है।
अशफाक-बिस्मिल शहादत दिवस पर आयोजित इस कार्यक्रम में जनसरोकारों से
जुड़ी मशहूर हस्तियाँ शिरकत करेंगी। सृजनात्मक कलाओं के इस महाकुम्भ में
आप सभी का स्वागत है।

महोत्सव के संयोजक शाह आलम ने कहा कि आज़ादी के 65 साल बाद भी देश के
सामने महँगाई, बेरोजगारी और भुखमरी का डंक और नुकीला हो रहा है। हम
घोटाले दर घोटाले की खबरें सुनने के आदी हो गए हैं। आम आदमी क़र्ज़ की बोझ
को ढो रहा है और अंत में छटपटाकर दम दोड़ दे रहा है। विरोध के स्वर कुंद
पड़ चुके हैं। हर तरफ अँधेरा है। जनसरोकारों की बात करने वालों को सत्ता
के कोप का शिकार होना पड़ रहा है। एक दशक से इरोम शर्मिला भूख हड़ताल पर
है पर सत्ता मजे से चैन की नीन्द सो रही है। मुल्ताई में दो दर्जन
किसानों की गोली मारकर हत्या कर देने वाला अफसर तरक्की पा रहा है और
किसानों के हक की बीत करना वाले डॉ सुनीलम उम्र कैद की सजा भुगत रहे हैं।
जल, जंगल जमीन पर कॉर्पोरेट घराने सरकार की मदद से कब्जे कर रहे हैं और
आदिवासियों की आवाज़ उठाने वाली दयामनी बारला जेल में है। ताउम्र इस देश
के संविधान की तौहीन करने वाले एक फसीवादी की राजकीय सम्मान के साथ
अन्त्येष्टि हो रही है और मीडिया ने जनता के इन सवालों से दूरी बना ली
है। मीडिया में आम आदमी का दर्द और उसकी सास्याएँ सिरे से गायब हैं।
शाह आलम ने तमाम इन्सानियत पसन्द, लोगों से आव्हान किया है-आइए जुड़वाँ
शहर अयोध्या और फैजाबाद के बीचों-बीच होने वाले इस आयोजन का हिस्सा बनें।
इस बार हम साथी धीरेन्द्र प्रताप सिंह और प्रो. बनवारी लाल शर्मा को याद
करते हुए अशफाक -बिस्मिल सभागार में आपको आमंत्रित करते हैं।